Breaking News
Home / National / कोरोना काल में उम्मीद की किरण बना योग : पीएम मोदी

कोरोना काल में उम्मीद की किरण बना योग : पीएम मोदी

आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस है। ऐसे में आपको बता दें क़ि इस बार योग दिसव का थीम ‘तंदुरुस्ती के लिए योग’ है। आज सातवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने लोगों को संबोधित किया। इस संबोधन में उन्होंने कहा कि, ”आज जब पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहा है, तो योग उम्मीद की एक किरण बना हुआ है। दो वर्ष से दुनिया भर के देशो में और भारत में भले ही बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नहीं हुआ हों, लेकिन योग दिवस के प्रति उत्साह कम नहीं हुआ है।”

कोरोना काल में योग बना उम्मीद की नई किरण | AGRA | NYOOOZ HINDI

इसी के साथ उन्होंने कहा क़ि, ”दुनिया के अधिकांश देशों के लिए योग दिवस कोई उनका सदियों पुराना सांस्कृतिक पर्व नहीं है। इस मुश्किल समय में, इतनी परेशानी में लोग इसे भूल सकते थे, इसकी उपेक्षा कर सकते थे। लेकिन इसके विपरीत, लोगों में योग का उत्साह बढ़ा है, योग से प्रेम बढ़ा है। भारत के ऋषियों ने, भारत ने जब भी स्वास्थ्य की बात की है, तो इसका मतलब केवल शारीरिक स्वास्थ्य नहीं रहा है। इसीलिए, योग में फ़िज़िकल हेल्थ के साथ साथ मेंटल हेल्थ पर इतना जोर दिया गया है। योग हमें स्ट्रेस से स्ट्रेंथ और नेगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है। योग हमें अवसाद से उमंग और प्रमाद से प्रसाद तक ले जाता है।”

योग दिवस पर मोदी बोले – कोरोना महामारी में उम्मीद की किरण बना हुआ है योग -  BBC Hindi

आगे प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ”आज जब पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहा है, तो योग उम्मीद की एक किरण बना हुआ है।दो वर्ष से दुनिया भर के देशो में और भारत में भले ही बड़ा सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नहीं हुआ हों लेकिन योग दिवस के प्रति उत्साह कम नहीं हुआ है. जब कोरोना के अदृष्य वायरस ने दुनिया में दस्तक दी थी, तब कोई भी देश, साधनों से, सामर्थ्य से और मानसिक अवस्था से, इसके लिए तैयार नहीं था। हम सभी ने देखा है कि ऐसे कठिन समय में, योग आत्मबल का एक बड़ा माध्यम बना।”

इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा क़ि, ”दुनिया के अधिकांश देशों के लिए योग दिवस कोई उनका सदियों पुराना सांस्कृतिक पर्व नहीं है। इस मुश्किल समय में, इतनी परेशानी में लोग इसे भूल सकते थे, इसकी उपेक्षा कर सकते थे। लेकिन इसके विपरीत, लोगों में योग का उत्साह बढ़ा है, योग से प्रेम बढ़ा है। जब मैं फ्रंटलाइन योद्धाओं और डॉक्टरों से बात करता हूं, तो वे मुझे बताते हैं कि उन्होंने योग को कोरोना के खिलाफ लड़ने का हथियार बनाया। उन्होंने न केवल अपनी सुरक्षा के लिए बल्कि रोगियों की भी सुरक्षा के लिए योग का उपयोग किया है। योग हमें स्ट्रेस से स्ट्रेंथ और नेगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है। योग हमें अवसाद से उमंग और प्रमाद से प्रसाद तक ले जाता है। उन्होंने कहा कि भारत के ऋषियों ने, भारत ने जब भी स्वास्थ्य की बात की है, तो इसका मतलब केवल शारीरिक स्वास्थ्य नहीं रहा है। इसीलिए, योग में फ़िज़िकल हेल्थ के साथ साथ मेंटल हेल्थ पर इतना ज़ोर दिया गया है।’

About News Desk

Check Also

‘खुदा हाफिज चैप्टर 2 अग्नि परीक्षा’ का दूसरा शानदार गाना ‘रूबरू’ हुआ रिलीज

‘खुदा हाफिज चैप्टर 2 अग्नि परीक्षा’ का दूसरा शानदार गाना ‘रूबरू’ हुआ रिलीज बॉलीवुड अभिनेता विद्युत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *