Home / Breaking News / “TIDE – Minerals for Everyone” : कश्विन के इस विचार को विश्वस्तर पर मिला प्रोत्साहन

“TIDE – Minerals for Everyone” : कश्विन के इस विचार को विश्वस्तर पर मिला प्रोत्साहन

“TIDE – Minerals for Everyone”, एक विचार है जो तेजी से फ़ैल रहा है और भारतीय पानी की व्यवस्था को एक बेहतर रूप दे सकता है। बता दें कि, यह कश्विन सहाय के लिए एक निजी रूचि के रूप में शुरू हुआ, जब यूरोप यात्रा पर वह क्रिस्टल सी सफ़ेद झीलों और अलंकृत फव्वारे की तस्वीर लेने में व्यस्त थीं उनके ज़हन में एक
परिवर्तनकारी विचार आया, “कि आसानी से उपलब्ध स्वच्छ और
स्वस्थ पानी सपने की कल्पना से कम नहीं। “क्या यह 21वी सदी है? मुफ्त पानी जो की स्वच्छ भी है। अश्विन इसके पीछे लगने वाली लागत और मेहनत का अंदाजा नहीं लगा पाई। भारत के साथ और भी कई देशो में जहां वे गईं थीं उन देशो में पैसे से मिलने वाले पानी के भी स्वच्छ होने की कोई गारंटी नहीं थी।

UNESCO ग्लोबल एक्शन प्रोग्राम
कश्विन बहुत ही साधारण विचारधारा वाली हैं परन्तु जब एक मित्र ने उन्हें युवा नागरिक उद्यमिता प्रतियोगिता २०१९ जो की UNESCO के ग्लोबल एक्शन प्रोग्राम (गैप) के सतत विकास पर शिक्षा के अंतर्गत थी। इस मंच ने विश्व प्रशंसित प्रोफेसर गुंटर फाल्टिन द्वारा ऑनलाइन उद्यमिता प्रशिक्षण की पेशकश की। इससे उन्हें अपने विचार को एक व्यवहार्य योजना के रूप में विकसित करने में मदद मिली और जल्द ही कश्विन के विचार को पूरे विश्व से वोट और टिप्पणियों के रूप में प्रोत्साहन मिला।

Tide का मुख्य उद्देश्य
Tide को अब शीर्ष 10 के रूप में पुरस्कार विजेता के रूप में चुना गया है और शीर्ष 3 के लिए विचार में है। इसका उद्देश्य भारत में पेयजल संकट को हल करना है। जल संसाधनों में प्रचुर मात्रा में होने के बावजूद, भारत में सुरक्षित पेयजल के बिना जीने वालों की संख्या विश्व में सबसे अधिक है। कश्विन ने यह भी उल्लेख किया है कि कैसे उसने अपने परिवार को RO या जल शोध प्रणालियों का उपयोग बंद करने और साधारण मिनरल जल का उपयोग करने के लिए कहा था।

भारत के हर कोने में स्वच्छ पानी होगा उपलब्ध
TIDE भारत में एक अद्वितीय और लागत प्रभावी जल आपूर्ति प्रणाली के माध्यम से भारत के हर कोने तक स्वच्छ मिनरल युक्त पेयजल उपलब्ध कराने की उम्मीद करता है। यहाँ वेंडिंग बूथों की एक विस्तृत नेटवर्क की आवश्यकता होती है, जो कि एक स्वास्थ्य क्षेत्र के अनुसार, मनमाने ढंग से गठित मिनरल युक्त पानी की जरूरत को पूरा करेगा, वर्तमान बाजार मूल्य के दसवें हिस्से पर और प्लास्टिक के उपयोग के बिना। इससे यह तीसरे सतत विकास के लक्ष्य अच्छा स्वास्थ्य और कल्याण’ को भी सम्बोधित करता है और 2025 तक भारत में सस्ती स्वच्छ और मिनरल युक्त पानी की १०० प्रतिशत सफलता का निर्माण करेगा।

बर्लिन में उद्यमिता शिखर सम्मेलन के अतिथि के रूप में आमंत्रित
कश्विन को अब भारत से 19 अक्टूबर और 20 अक्टूबर को बर्लिन (जर्मनी) में उद्यमिता शिखर सम्मेलन के अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है। इस शिखर सम्मेलन में उन्हें पुरस्कार मिलेगा और उद्यमी निवेशकों और शिक्षाविदों से मिलने का अवसर मिलेगा,
जिससे भारत में उनके विचार के कार्यान्वयन को गति मिलेगी और हमारे पेयजल आपूर्ति प्रणाली को सकारात्मक रूप से बदला जा सकेगा।

कश्विन की पृष्ठभूमि
कश्विन एक गैर व्यावसायिक पृष्ठभूमि से आती है और वह भारत या यूरोप से MBA करना चाहती है जिससे वह एक उद्यमी होने के लिए कौशल हासिल कर पाए। वह भारत में एक बेहतर वातावरण और समाज बनाने के लिए उद्यमिता में अपने लक्ष्य के बारे में स्पष्ट है। उनका अगला कदम कार्य के लिए धन की व्यवस्था करना होगा लेकिन वह सही समय का इंतजार कर रही है। ज्वार से पहले कश्विन ने स्थानीय कारीगरों को एक निष्पक्ष बाजार से जोड़ने के लिए सिल्क रूट नामक एक सार्वजनिक धर्मार्थ ट्रस्ट की स्थापना की थी। वह प्रयास नामक प्रमुख बच्चों के NGO में भी विशेष योगदान देती
है और कई सामाजिक गतिविधियों में भी शामिल रही हैं। सामाजिक उद्यमिता में कश्विन के पूर्व अनुभव को ध्यान में रखते हुए, TIDE के
उज्जवल भविष्य की पूरी उम्मीद की जा सकती है

About admin

Check Also

लखीमपुर खीरी मामले में  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से की किसानों को न्याय दिलाने की मांग*

  *लखीमपुर खीरी मामले में  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से की किसानों को न्याय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *