Home / Azab Gazab / 5वीं क्लास की बच्ची ने किया कुछ ऐसा कि बन गई लखपति…

5वीं क्लास की बच्ची ने किया कुछ ऐसा कि बन गई लखपति…

आज के समय में लोग सोशल मीडिया पर बहुत सक्रीय रहते है आज कल कोई भी मुद्दा हो सोशल मीडिया एक जरिया बन गया है लोगों के लिए, जिसके माध्यम से लोग अपने विचार रखते है। इस बीच सड़क किनारे बैठ कर आम बेच रही 5वीं कक्षा की विद्यार्थी की कहानी सोशल मीडिया पर इस तरह वायरल हुई, कि उसके सपनों को पंख लग गए। एक व्यक्ति ने इस लड़की को 12 आम के बदले में सवा लाख रुपये दिए। ये आम विशेष नहीं थे, जिसके लिए इतने दाम मिले, बल्कि पढ़ाई का लेकर इस बच्ची के भीतर जूनन देखकर व्यक्ति ने इतने महंगे दाम में आम खरीदे।

वही झारखंड के जमशेदपुर में स्ट्रैट माइल्स रोड के बंगला नंबर 47 के आउट हाउस में रहने वाली 11 साल की तुलसी पांचवीं कक्षा की छात्रा है। उसके परिवार के आर्थिक हालात बहुत ख़राब है। जैसे तैसे परिवार के लोग उसे पढ़ा तो रहे थे, मगर कोरोना काल में स्कूल ​बंद हो गए। स्कूल ​बंद होने के पश्चात् ऑनलाइन क्लास आरम्भ हुईं, तो तुलसी की पढ़ाई रुक हो गई। क्योंकि ऑनलाइन कक्षा लेने के लिए उसके पास स्मार्ट फोन नहीं था। इसलिए तुलसी ने नए मोबाइल के लिए पैसा जुटाने के लिए आम बेचने का निर्णय लिया।

तुलसी बंगला के बगीचे में लगे आम के पेड़ से रोज पके आम तोड़कर लाती तथा उन्हें सड़क पर रखकर बेच रही थी। इस के चलते तुलसी की ये पूरी स्टोरी सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। पढ़ाई के लिए मजबूरी में आम बेच रही तुलसी की कहानी जब मुंबई के रहवासी वैल्युएबल एडुटेंमेंट कंपनी के वाइस चेयरमैन अमेया हेते तक पहुंची, तो उन्होंने उसकी सहायता करने ​के लिए कदम आगे बढ़ाये। बड़े कारोबारी ने इस बच्ची से सिर्फ 12 आम 1 लाख 20 हजार रुपये में खरीदकर उसके सपनों को नई उड़ान दी है। वहीं इस सहायता के पश्चात् से तुलसी की खुशी का ठिकाना नहीं है। तुलसी ने इस राशि में से 13 हजार रुपये का स्मार्ट फोन खरीदा है। बाकी की राशि को उसने आगे की पढ़ाई के लिए बचाया है। इस सहायता के पश्चात् अब तुलसी आम नहीं बेच रही, बल्कि घर में रहकर पढ़ाई कर रही है।

About News Desk

Check Also

लखीमपुर खीरी मामले में  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से की किसानों को न्याय दिलाने की मांग*

  *लखीमपुर खीरी मामले में  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से की किसानों को न्याय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *