Breaking News
Home / International / 12 मई को क्यों मनाया जाता है, अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में।

12 मई को क्यों मनाया जाता है, अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में।

विशेष रूप से, दुनिया भर में नर्सों के योगदान को चिह्नित करने के लिए हर साल 12 मई को अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में मनाया जाता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस पर हमारे संसार को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका के लिए नर्सों की सराहना की है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया नर्स हमारे संसार को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। अगर डॉक्टर्स आपको नया जीवन देते हैं तो नर्स उस नये जीवन में जान फूंकती है। इस भाव के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस पर नर्सिंग स्टाफ के प्रति कृतज्ञता जताई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस के अवसर पर नर्सों के ‘समर्पण और करुणा’ की सराहना की और संसार को स्वस्थ रखने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार किया।

यह दिवस हर साल 12 मई को फ्लोरेंस नाइटिंगेल की जयंती पर मनाया जाता है। विशेष दिन को इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स द्वारा चुना गया था और 1974 से आधिकारिक तौर पर मनाया जा रहा है। दिन के पीछे प्रेरणा ब्रिटिश नर्स और समाज सुधारक फ्लोरेंस नाइटिंगेल हैं जिन्होंने स्वास्थ्य क्षेत्र के सुधार के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। इस वर्ष नर्स दिवस की थीम ‘नर्स: ए वॉयस टू लीड – इन्वेस्ट इन नर्सिंग एंड आदर राइट्स टू सिक्योर ग्लोबल हेल्थ’ है।

बहुत से लोग सोचते हैं कि स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में सबसे महत्वपूर्ण लोग डॉक्टर हैं, लेकिन यह सच नहीं है। अस्पताल में सफाइकर्मी, नर्सें हमारे सभी चिकित्सा संस्थानों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जो सभी रोगियों के कल्याण, उनकी सुरक्षा और उनके स्वस्थ होने के लिए जिम्मेदार होते हैं। अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस इसलिए बनाया गया है ताकि हम दुनिया भर की सभी नर्सों और उनके द्वारा किए गए अविश्वसनीय काम को सम्मान दे सकें। नर्स दिवस दुनिया भर में नर्सों के योगदान का सम्मान और जश्न मनाने के लिए एक विशेष दिन है।

About News Desk

Check Also

दिल्ली के बुराड़ी क्षेत्र में महर्षि श्री मुरलीधर व्यास जी के सानिध्य में “राष्ट्रीय कामधेनु गौकथा महोत्सव 2022” का आयोजन किया गया

दिल्ली के बुराड़ी क्षेत्र में महर्षि श्री मुरलीधर व्यास जी के सानिध्य में “राष्ट्रीय कामधेनु …

Leave a Reply

Your email address will not be published.