Breaking News

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक तेज-तर्रार नेता गुलाब नबी आज़ाद का आज जन्मदिन

भारत के वरिष्ठ और दिग्गज कांग्रेसी नेता गुलाब नबी आज़ाद का आज जन्मदिन है, गुलाब नबी आज़ाद का जन्म 7 मार्च, 1949 को जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में हुआ था। इनके पिता का नाम रहमतुल्लाह था। गुलाब नबी आजाद ने जम्मू-कश्मीर विश्वविद्यालय से प्राणि विज्ञान में स्नातकोत्तर की पढ़ाई संपन्न किया था। गुलाम नबी आजाद ने साल 1980 में कश्मीर की एक मशहूर तथा प्रतिष्ठित गायिका शमीन देव आजाद के साथ विवाह संपन्न किया। इनके परिवार में पत्नी एवं दो बच्चे हैं। वही कांग्रेस में ऐसे कई सारे वफादार नेता हैं जो गांधी-नेहरू परिवार पर पड़ने वाली किसी भी परेशानी के वक़्त साथ खड़े नजर आते हैं। उन्हीं नेताओं में से एक हैं गुलाम नबी आजाद। चाहे बात तेलंगाना मसले की हो अथवा फिर अन्य दूसरे कठिन मसलों की कांग्रेस की आलाकमान अन्य नेताओं की अपेक्षा गुलाम नबी आजाद पर ज्यादा विश्वास करती हैं।

गुलाम नबी आजाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक तेज-तर्रार नेता हैं। कई बार उन्हें अपने बयानों की वजह से विपक्षी दलों एवं जनता की आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ा है। वह एक कुशल राजनेता हैं। साल 1973 में कांग्रेस के सदस्य के रूप में गुलाम नबी आजाद ने सक्रिय राजनीति में कदम रखा। साल 1973-1975 के मध्य वह ब्लेस्सा कांग्रेस समिति के ब्लॉक सचिव रहे। यहीं से उनके राजनैतिक जीवन को उचित दिशा मिलनी आरम्भ हो गई। साल 1975 में गुलाम नबी आजाद जम्मू-कश्मीर युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और फिर 1977 में डोडा शहर के कांग्रेस अध्यक्ष बने। इसके पश्चात् शीघ्र ही वह अखिल भारतीय युवा कांग्रेस के महासचिव बनाए गए।

साल 1982 में गुलाम नबी आजाद ने पहले केन्द्रीय उपमंत्री के रूप में कानून, न्याय तथा कंपनी मामलों का मंत्रालय संभाला फिर कुछ ही वक़्त पश्चात् राज्य मंत्री बने। वर्ष 1985 में गुलाम नबी आजाद वशिम निर्वाचन क्षेत्र से दोबारा लोकसभा चुनाव जीतने के बाद गृह राज्य मंत्री बनाए गए। किन्तु उन्हें शीघ्र ही खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्रालय सौंप दिया गया। इन सब के अतिरिक्त साल 1978 से 1981 तक गुलाम नबी आजाद अखिल भारतीय मुस्लिम युवा कांग्रेस के भी अध्यक्ष रहे। 1986 में कांग्रेस कार्य समिति के भी मेंबर बनाए गए। इसके पश्चात् साल 1987 में वह अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव बने।

About News Desk

Check Also

27 नवंबर, 2023 के समापन दिवस पर, ऐतिहासिक 42वें पर पर्दा गिर गया भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेले का संस्करण। इस उल्लेखनीय को मनाने के लिए कार्यक्रम में समापन समारोह आयोजित किया गया।

आईआईटीएफ 2023 पर पर्दा हटाया गया – जारी रखने के वादे के साथ उत्कृष्टता 27 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *